देश / विदेश

श्रीलंका कि तरह भारत मै भी बुर्के पे बैन लगाने कि शिवसेना कि मांग, BJP ने किया विरोध

21 अप्रैल (रविवार) को श्रीलंका के चर्च मै आतंकी हमला हुआ. उसमे 253 लोगो कि मृत्यू हुई और करीब 500 लोग घायल हो गये. गुड फ्रायडे के बाद चर्च मै रविवार को इस्टर संडे मनाया जा रहा था, तब आतंकी हमला हुआ. तब श्रीलंका के सरकार ने बुरखा, नाकाब और चेहरा छुपाने वाली हर चीज को बैन कर दिया. जिससे इस्लामी आतंकवाद बढ ना जाये. केंद्र में NDA की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बुर्का और नकाब पर बैन लगाने की मांग की है. ईस्टर संडे के दिन श्रीलंका पर जो सिरीयल ब्लास्ट हुआ उसको लेकर शिवसेना ने बुर्के और नकाब बैन कि मांग कि है. शिवसेना ने सरकार ने कि हुई ट्रिपल तलाक के मुद्दे कि तारीफ कि और बुर्के और नकाब पे बैन लगाया जाये ऐसे अपील की.

Twitter Source : ANI

Twitter Source : ANI

शिवसेना के इस मांग का BJP ने विरोध किया है. बीजेपी नेता और प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा ने इस मांग का विरोध करते हुए कहा कि भारत में बुर्के पर बैन की कोई जरूरत नहीं है. शिवसेना का केहेना है के श्रीलंका विस्फोट के बाद हुई मौत के आकंड़े देखते हुई इस्लामी आतंकवाद से देश की रक्षा की जाये इसीलिये श्रीलंका की तरह भारत मै भी बुर्के और नकाब को बैन करना जरुरी है. शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में लिखा है, ‘मौजूदा सरकार ने ‘ट्रिपल तलाक’ के खिलाफ कानून बनाकर पीड़ित मुस्लिम महिलाओं का शोषण आदि रोक दिया है. यह स्वीकार है लेकिन भीषण बम विस्फोट के बाद श्रीलंका में बुर्का और नकाब सहित चेहरा ढंकनेवाली हर चीज पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. हम इस निर्णय का स्वागत कर रहे हैं और प्रधानमंत्री मोदी को भी श्रीलंका के राष्ट्रपति के कदमों पर कदम रखते हुए हिंदुस्तान में भी ‘बुर्का’ और उसी तरह ‘नकाब’ बंदी करें, ऐसी मांग राष्ट्रहित के लिए कर रहे हैं. फ्रांस में भी आतंकवादी हमला होते ही वहां की सरकार ने बुर्का पर बैन लगाया. न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन में भी यही हुआ. फिर इस बारे में हिंदुस्तान पीछे क्यों?’ उसके आगे शिवसेना ने कहा के बुर्के पर बैन रावण की लंका में हो गया यह राम की अयोध्या में कब होगा? जब फ्रान्स मै आतंकी हमला हुआ तब फ्रान्स सरकार ने भी बुर्के के उपर बैन लागाया था. केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा है कि शिवसेना की यह मांग गलत है. हर बुर्का पहनने वाली महिला आतंकवादी नहीं है. यह उनकी पारंपरिक पोशाक है. उनका हक है कि वे इसे पहन सकती हैं. अगर वे आतंकी हैं तो उनका बुर्का हटाया जा सकता है. भारत में बुर्के पर बैन नहीं लगना चाहिए.

यह भी पढे : आसाराम के बेटे नारायण साई को रेप केस पर 1 लाख के जुर्माने के साथ उम्रकैद की सजा

Tags

Dinar Kulkarni

Hi, this is Dinar Kulkarni, a Blogger, Freelancer, SEO Consultant, an Internet Marketer. Born in 1993. Entertainment Blogger in Cognizance Now. I dream to Achieve Every Goal I dream of being the best out of my own.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close